भारत में उद्योगपति गौतम अडानी की शासक दल के साथ निकटता किसी से छिपी हुई नहीं है. जिसके चलते वो तेजी से तरक्की कर रहे हैं. भारत में अडानी के खिलाफ आवाज उठाने की किसी को हिम्मत नहीं है, लेकि भारत से हजारों किलोमीटर दूर ऑस्ट्रेलिया में अडानी के खिलाफ विरोध होने लगा है.

शुक्रवार को सिडनी में भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेले गये पहले वनडे मैच के दौरान उस वक्त असहज स्थिति हो गई जब दो प्रदर्शनकारी ग्राउंड में घुस आए और अडानी का विरोध करने लगे. वे ‘नो $1बिलियन अडानी लोन’ का प्लेकार्ड लेकर प्रदर्शन करने लगे थे.

जिस वक्त यह स्थिति हुई, उस वक्त ऑस्ट्रेलियाई पारी का छठा ओवर चल रहा था. ऑस्ट्रेलिया की तरफ से वार्नर और फिंच बैटिंग कर रहे थे, तभी #StopAdani टी-शर्ट पहने दो व्यक्ति मैदान में घुस आये. वो हाथों में बैनर लिये हुए थे, जिस पर लिखा था- “स्टेट बैंक ऑफ इंडिया नो 1 बिलियन डॉलर अडानी लोन”. इस दौरान मैदान में मौजूद भारत और ऑस्ट्रेलिया के खिलाड़ी तथा अंपायरों को यह समझ में ही नहीं आ रहा था कि आखिर यह सब क्या हो रहा है. दोनों प्रदर्शनकारी बैनर लेकर पूरे ग्राउंड का चक्कर लगाते रहे. इस दौरान स्टेडियम में मौजूद लोग उनके समर्थन में तालियां बजा रहे थे. मैदान में मौजूद सुरक्षा कर्मी दोनों प्रदर्शनकारियों को पकड़ कर बाहर ले गये. मैच के दौरान स्टेडियम के बाहर भी लोग अडानी के विरोध में प्रदर्शन कर रहे थे.

बता दें कि ऑस्ट्रेलिया में अडानी ग्रुप के खिलाफ काफी दिनों से विरोध हो रहा है. यह झगड़ा ऑस्ट्रेलिया में अडानी ग्रुप का नॉर्थ गैलिली बेसिन की कारमाइकल खदान को लेकर है. ये खदान ऑस्ट्रेलिया के क्वीन्सलैंड राज्य में ब्रिसबेन से उत्तर-पश्चिम में क़रीब 1200 किलोमीटर पर स्थित है. कंपनी यहां से निकलने वाले कोयले को भारत भेजना चाहती है, लेकिन इसे लेकर यहां कई सालों से विरोध चल रहा है. अडानी ग्रुप का कहना है उसने ऑस्ट्रेलिया में 1500 स्थानीय लोगों को नौकरियां भी दी हैं. लेकिन लोग इस परियोजना को पर्यावरण के खिलाफ बता रहे हैं और इसका विरोध कर रहे हैं.

आप इस स्टोरी के बारे में कुछ कहना चाहते हैं?