कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रति व्यक्ति जीडीपी के मोर्चे पर भारत के कमजोर पड़ने को लेकर केंद्र सरकार पर निशाना बनाया है. उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने पिछले छह सालों में सिर्फ नफरत की राजनीति की है और अर्थव्यवस्था को चौपट कर दिया है. उन्होंने कटाक्ष करते हुए कहा कि यह बीजेपी के छह सालों के दौरान नफरत से भरे सांस्कृतिक राष्ट्रवाद की ठोस उपलब्धि है.

बता दें कि अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) ने अनुमान जताया है कि बांग्लादेश प्रति व्यक्ति जीडीपी के मामले में जल्द ही भारत से आगे निकल जाएगा. राहुल ने आईएमफ के अनुमान संबंधी एक ग्राफ को साझा करते हुए ट्वीट कर कहा, ‘यह बीजेपी के नफरत भरे सांस्कृतिक राष्ट्रवाद की छह साल की ठोस उपलब्धि है. बांग्लादेश भारत से आगे निकलने वाला है.’

गौरतलब है कि अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने अनुमान लगाया है कि बांग्लादेश का प्रति व्यक्ति सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) 2020 में चार फीसदी की दर से बढ़ते हुए 1,888 डॉलर तक पहुंच गया है. वहीं भारत में प्रति व्यक्ति जीडीपी 1,877 डॉलर पर पहुंच गया है. जो पिछले चार साल में सबसे कम है.

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष की रिपोर्ट के मुताबिक, भारत दक्षिण एशिया में तीसरा सबसे गरीब देश बनने जा रहा है. सिर्फ पाकिस्तान और नेपाल की प्रति व्यक्ति जीडीपी ही भारत से कम होगी, जबकि बांग्लादेश, भूटान, श्रीलंका और मालदीव जैसे देश भारत से आगे होंगे.

बता दें कि किसी देश का सकल घरेलू उत्पाद (GDP) कितना है, उसमें वहां की कुल आबादी से भाग देने पर जो आते है, वही प्रति व्यक्ति जीडीपी कहलाता है. जीडीपी ही किसी देश की अर्थव्यवस्था और उस देश के नागरिकों की आर्थिक स्थिति का पैमाना है. अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष प्रत्येक वर्ष प्रति व्यक्ति जीडीपी के आधार पर प्रत्येक देश का रैंक निर्धारित करता हैं।

आप इस स्टोरी के बारे में कुछ कहना चाहते हैं?