सुप्रीम कोर्ट ने हाथरस में दलित लड़की से गैंगेरप और उसकी मौत के मामले की सीबीआई की जांच इलाहाबाद हाईकोर्ट की निगरानी में किए जाने का आदेश दिया है. कांग्रेस ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश का स्वागत करते हुए मंगलवार को कहा कि इससे इंसाफ की उम्मीद को मजबूती मिलेगी.

पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर कहा, ‘‘हाथरस मामले में उच्चतम न्यायालय का फैसला इंसाफ की उम्मीद को मजबूत करता है. परिवार की पहले दिन से मांग थी कि अदालत की निगरानी में जांच हो.’’ उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘हाथरस की पीड़िता, उसके परिवार के साथ उप्र सरकार द्वारा जघन्य व्यवहार किया गया. चरित्र हनन किया गया. दुर्भावना व पूर्वाग्रह से निर्णय लिए गए.’’

कांग्रेस प्रवक्ता और अखिल भारतीय महिला कांग्रेस की अध्यक्ष सुष्मिता देव ने कहा, ‘‘हाथरस के मामले पर आए सुप्रीम कोर्ट के निर्णय का स्वागत करती हूं. अदालत की निगरानी में जांच की मांग परिवार ने की थी और इस लड़ाई में राहुल गांधी तथा प्रियंका गांधी ने उनका साथ दिया.’’ उन्होंने कहा, ‘‘यह ज़रूरी था क्योंकि उत्तर प्रदेश की पुलिस और प्रशासन अन्याय करने पर तुले हुए थे. अगर उत्तर प्रदेश की सरकार प्रदेश की बेटियों को सुरक्षित नहीं रख सकती तो प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लगाया जाना चाहिए.’’

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को कहा कि उत्तर प्रदेश के हाथरस मामले की जांच सीबीआई करेगा और इलाहाबाद हाईकोर्ट इसकी निगरानी करेगा.

आप इस स्टोरी के बारे में कुछ कहना चाहते हैं?