उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस बेहद खतरनाक रुप ले चुका है. आमलोग तो दूर की बात है, इस जानलेवा वायरस ने 15 दिन में योगी सरकार के दो मंत्रियों की जान ले ली है. रविवार को कैबिनेट मंत्री चेतन चौहान की खबर से राज्य सरकार में हड़कंप मच गया.

चेतन चौहान को पिछले 12 जुलाई को कोरोना पॉजिटिव आने के बाद लखनऊ के संजय गांधी पीजीआई में दाखिल करवाया गया था. जहां से उन्हें बाद में गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल ले जाया गया था. वहीं 73 वर्षीय चेतन चौहान ने रविवार को आखिरी सांस ली.

पूर्व क्रिकेटर चेतन चौहान उत्तर प्रदेश में कैबिनेट मंत्री थे और अमरोहा जिले की नौगांवा विधानसभा के विधायक थे.

चेतन चौहान से पहले योगी सरकार की एक और मंत्री कमला रानी वरुण का कोरोना के कारण दो अगस्त को निधन हो गया था. कमला रानी का लखनऊ स्थित एसपीजीआई में इलाज चल रहा था जहां उनकी मौत हो गई. कमला रानी यूपी की प्राविधिक शिक्षा मंत्री थीं. कमला रानी घाटमपुर सीट से विधायक थी. उन्हें 18 जुलाई को कोरोना पॉजिटिव पाये जाने के बाद अस्पताल में भर्ती करवा गया.

यूपी में पिछले 24 घंटे में कोरोना संक्रमण से 58 और लोगों की मौत हो गई. इस तरह सूबे में इस बीमारी से मरने वालों की संख्या बढ़कर 2449 हो गई है. इस दौरान कोरोना के 4454 नये मामले सामने आये हैं.

आप इस स्टोरी के बारे में कुछ कहना चाहते हैं?