मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने गुरुवार को पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की जयंती पर महिलाओं के लिए दाई-दीदी क्लीनिक का शुभारंभ किया। उन्होंने हरी झंडी दिखाकर मोबाइल क्लीनिक को रवाना किया। अपनी तरह की देश की पहली और अकेली योजना है, जिसमें महिला डॉक्टरों की टीम महिलाओं का उपचार करेगी। इससे पहले मुख्यमंत्री ने इंदिरा गांधी के चित्र पर माल्यार्पण किया।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने क्लीनिक के अंदर जाकर उपलब्ध सुविधाओं को देखा और अपने ब्लड प्रेशर की जांच भी कराई।
इस दौरान मुख्यमंत्री बघेल ने कहा, संकोच के कारण महिलाएं अपनी बीमारी को खुलकर नहीं बता पाती हैं। इसके चलते सही उपचार नहीं हो पाता। अब दाई-दीदी क्लीनिक में महिला चिकित्सक और महिला स्टाफ होने से वे निःसंकोच अपना इलाज करा सकेंगी। उन्हें अस्पतालों में जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। मुख्यमंत्री ने महिलाओं से इस क्लीनिक का ज्यादा से ज्यादा लाभ उठाने की अपील की है।

पायलट प्रोजेक्ट में रायपुर, दुर्ग-भिलाई और बिलासपुर में होगा संचालन
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने पायलेट प्रोजेक्ट के रूप में रायपुर, दुर्ग-भिलाई और बिलासपुर नगर निगम क्षेत्र के लिए 3 स्पेशल मोबाइल दाई-दीदी क्लीनिक की शुरुआत की है। उन्होंने क्लीनिक के अंदर जाकर उपलब्ध सुविधाओं को देखा और अपने ब्लड प्रेशर की जांच भी कराई। इस दाई-दीदी स्पेशल क्लीनिक में डॉक्टर सहित सभी मेडिकल स्टाफ महिलाएं होंगी। केवल महिलाओं का ही फ्री इलाज किया जाएगा।

दाई-दीदी क्लीनिक में महिलाओं को मिल सकेगी यह सुविधाएं

दाई-दीदी क्लीनिक में महिलाओं के प्राथमिक उपचार के साथ-साथ महिला चिकित्सक स्तन कैंसर की जांच, स्व स्तन जांच का प्रशिक्षण।
गर्भवती महिलाओं की नियमित व विशेष जांच की अतिरिक्त सुविधा होगी।
महिला एवं बाल विकास विभाग के सहयोग से शहरों में स्थित आंगनबाड़ी के निकट पूर्व निर्धारित दिवसों में यह क्लीनिक स्लम क्षेत्र में लगाया जाएगा।
क्लीनिक के साथ-साथ गर्भवती महिलाओं, बच्चों के लिए विभाग की विभिन्न परियोजना का लाभ भी दिया जाएगा।
महिला क्लीनिक में डेडिकेटेड महिला स्टाफ होने से गर्भनिरोधक संसाधन और अन्य परामर्श भी ले सकेंगी। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अपने निवास कार्यालय में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के चित्र पर माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्होंने कहा, इंदिरा जी ने आजीवन गरीबों और समाज के कमजोर वर्गों के उत्थान के लिए प्रयास किया।

आप इस स्टोरी के बारे में कुछ कहना चाहते हैं?