बिहार विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार अभियान जोरों पर है. सभी पार्टियों ने अपनी पूरी ताकत चुनाव प्रचार में झोंक दी है. जवाहरलाल नेहरु यूनिवर्सिटी (जेएनयू) छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष और भाकपा नेता कन्हैया कुमार भी बिहार की चुनावी जंग में कूद चुके हैं. बिहार के बेगूसराय में एक जनसभा में बीजेपी पर हमला करते हुए कन्हैया कुमार ने कहा कि पहले ईवीएम हैक किया जाता था, लेकिन अब तो सीएम (मुख्यमंत्री) हैक होने लगे हैं. उनका इशारा नीतीश कुमार की ओर था, जिन्होंने गठबंधन का साथ छोड़ कर दोबारा बीजेपी से हाथ मिलाया है.

बता दें कि बेगूसराय कन्हैया कुमार का गृह जिला है. सोमवार को बेगूसराय की 2 विधानसभा सीट बखरी एवं तेघड़ा के लिए भाकपा (CPI) के उम्मीदवार सूर्यकांत पासवान एवं राम रतन सिंह ने नामांकन दाखिल किया था. नामांकन दाखिल करने के बाद भाकपा उम्मीदवारों के समर्थन में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कन्हैया कुमार ने कहा कि पिछले चुनाव में जनता ने बीजेपी के विरोध में वोट किया था और नीतीश कुमार की सरकार बनी थी, लेकिन कुछ ही महीनों के बाद बीजेपी ने सीएम को ही हैक कर लिया और खुद सरकार में शामिल हो गई. और बीजेपी के खिलाफ वोट देने वाली जनता ठगी रह गई.

इसी साल कांग्रेस छोड़ कर बीजेपी में शामिल हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया का जिक्र करते हुए कन्हैया कुमार ने कहा कि जब तक ज्योतिरादित्य सिंधिया कांग्रेस में थे तब तक वह बहुत ही खराब व्यक्ति थे लेकिन, जैसे ही उन्होंने बीजेपी ज्वाइन किया तो वह बहुत अच्छे आदमी हो गए.

बीजेपी पर कटाक्ष करते हुए कन्हैया कुमार ने कहा कि अगर मुझे बार-बार देशद्रेही कहोगे तो मैं बीजेपी में शामिल हो जाऊंगा. ऐसा करते ही मेरे ऊपर लगे सारे आरोप खत्म हो जायेंगे, क्योंकि बीजेपी ज्वायन करते ही सारे पाप धुल जाते हैं. कन्हैया ने कहा कि तुरंत जिसको ये लोग गाली देते हैं, 5 मिनट बाद ही उसको मौसा कहना शुरू कर देते हैं.

भाकपा के युवा नेता ने कहा कि बीजेपी को लगा कि कोरोना महामारी के बीच अगर चुनाव करवा लिया जाए तो उन्हें नीतीश कुमार के बैसाखी की जरूरत नहीं पड़ेगी और वह अकेले सरकार बनाने में सक्षम होंगे. इसी वजह से चुनाव कराने की जल्दबाजी की गई है.

आप इस स्टोरी के बारे में कुछ कहना चाहते हैं?