रिपोर्ट के मुताबिक जापान की वसेडा यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर ने एक रिपोर्ट तैयार की है. जिसके मुताबिक 2010 में जापान में मुस्लिमों की आबादी करीब 1 लाख 10 हजार थी, लेकिन 2019 में यह बढ़कर 2 लाख 30 हजार हो गई. इस रिपोर्ट के मुताबिक 50 हजार जापानी लोग भी इसमें शामिल हैं। जो हाल ही में धर्म बदलकर मुस्लिम बने हैं।

वसेडा यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर तनाडा हिरोफुमी की रिपोर्ट के अनुसार जापान की आबादी घट रही है और देश में जन्म दर भी कम हो गई है. जिससे भविष्य में जापान में काम करने वाले युवाओं की संख्या घटने लगी है. इसी के चलते जापान की सरकार विदेशी वर्कर्स और स्टूडेंट्स को अपनी और आकर्षित करने की कोशिश कर रही है।

आपको बता दें जापान में मुसलमानों की आबादी बढ़ी है साथ ही उनके लिए कई सुविधाएं भी बढ़ गई हैं और इसी को देखते हुए अन्य चीजों के लिए मांग भी हो रही है. जैसे जापान में मस्जिदों की संख्या को लेकर भी बात की जा रही है. वही बीप्पू मुस्लिम एसोसिएशन के प्रमुख अब्बास खान कहते हैं कि यह बदलाव स्वागत योग्य है।

अब्बास खान ने बताया कि 2001 में जब वे पाकिस्तान से एक छात्र के तौर पर जापान आए थे तब यहां सिर्फ 24 मस्जिदें थीं. लेकिन आज यहाँ मस्जिदों की संख्या बढ़ गई है, हलाकि कई चीजों के लिए मुस्लिमों को अभी भी संघर्ष करना पड़ रहा है। जैसे क’ब्रगाह के लिए जगह ढूंढना। खान कहते हैं कि अगर उनकी आज मौ#त हो जाती है तो उन्हें नहीं मालूम कि उनको कहां दफनाया जाएगा।

आप इस स्टोरी के बारे में कुछ कहना चाहते हैं?