सोनू सूद कुछ महीने पहले तक महज एक बॉलीवुड एक्टर थे, लेकिन लॉकडाउन के दौरान उन्होंने जिस तरह से लोगों की मदद की, उसके बाद वो एक मसीहा के रुप में उभर कर सामने आये हैं. लॉकडाउन के दौरान उन्होंने हजारों लोगों को पैसे, खाने से लेकर कई जरूरत की चीजें पहुंचाईं. हजारों प्रवासी मजदूरों को उनके घर तक पहुंचाया.

अक्सर लोगों के मन में ये सवाल आते थे कि सोनू सूद तो शाहरुख खान, सलमान खान और अक्षय कुमार की तरह सुपरस्टार नहीं है, जो हर साल सैकड़ों करोड़ रुपये की कमाई करते हैं. ऐसे में वो किस तरह हजारों लोगों की मदद कर रहे हैं. अब जा कर इस राज से पर्दा उठा है. हाल ही में एक रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि सोनू ने प्रवासी मजदूरों को घर पहुंचाने, उनके खाने-पीने की व्यवस्था करने, लोगों के लिए घर बनवाने और लोगों के इलाज के लिए अपनी कीमती चीजों को गिरवी रख दिया है.

मनीकंट्रोल डॉट कॉम की रिपोर्ट के मुताबिक, सोनू सूद ने अपनी 2 दुकानें और 6 फ्लैट्स गिरवी रखे हैं. इससे उन्होंने 10 करोड़ रुपये जमा किए. इन प्रॉपर्टीज के मालिक सोनू और उनकी पत्नी सोनाली हैं.

रिपोर्ट के अनुसार सोनू ने मुंबई के जुहू इलाके में स्थित अपनी दो दुकान और 6 फ़्लैट को गिरवी रखे हैं. ये दोनों दुकानें ग्राउंड फ़्लोर पर हैं और फ़्लैट्स शिव सागर कोऑपरेटिव हाउसिंग सोसायटी में है. ये हाउसिंग सोसायटी इस्कॉन मंदिर के पास एबी नायर रोड पर स्थित है.

सोनू को उनकी 8 प्रोपर्टी के लिए बैंक ने 10 करोड़ रु का लोन दिया है. दस्तावेजों के अनुसार सोनू ने 10 करोड़ रुपये के लोन पर 5 लाख रुपये के रजिस्ट्रेशन फीस का भुगतान किया गया है.

आप इस स्टोरी के बारे में कुछ कहना चाहते हैं?