सोशल मीडिया प्लेटफार्म ट्विटर ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के अकाउंड को स्थाई रुप से बंद कर दिया है. ट्विटर ने यह कार्रवाई सोशल मीडिया के जरिये जनता को भड़काने की घटना के बाद की है. ट्विटर का कहना है कि वो अपने मंच को लोगों को भड़काने के लिए इस्तेमाल नहीं करने देगा, चाहे वो व्यक्ति कितना भी बड़ा और ताकतवर क्यों न हो. ट्विटर की इस कार्रवाई की दुनिया भर में तारीफ हो रही है, लेकिन हकीकत में यह ट्विटर का दोगलापन है. एक तरफ तो उसने नफरत फैलाने के आरोप में ट्रंप के अकाउंट को बंद कर दिया है, लेकिन वहीं दूसरी तरफ बीजेपी के तमाम नेता और भगवा संगठन के लोग उसके मंच का नफरत फैलाने के लिए खुलेआम इस्तेमाल कर रहे हैं.

आप इस स्टोरी के बारे में कुछ कहना चाहते हैं?